मोटापा कैसे घटाएं - मोटापा घटाने के उपाय हिंदी में - Treatment of Obesity in Hindi

कई जानलेवा बीमारियों की जड़ है मोटापा – जानिये इसके लक्षण, कारण और निवारण!

मोटापा या ओबेसिटी (Obesity) का मतलब शरीर के ऊपरी हिस्से में अत्यधिक वजन का बढ़ जाना होता है। इससे ग्रस्त व्यक्ति का शरीर थुलथुला व बेडौल हो जाता है जिससे मांसपेशियां ढीली पड़ जाती है। मोटापा और इससे होने वाली बीमारियां दुनिया के लिए एक नया खतरा बनती जा रही हैं। कई विकसित देश इससे ग्रस्त हैं और अब यह भारत को भी अपनी चपेट में ले रहा है।

हमारे शरीर में एफटीओ (FTO) नाम का एक जीन होता है, जिससे भूख ज्यादा लगती है और लगातार खाते रहने की आदत से व्यक्ति मोटा हो जाता है। रिसर्च यह भी कहते हैं कि आज के दौर में ओबेसिटी का सबसे बड़ा कारण फास्टफूड और आरामतलब जिंदगी है।

मोटापे से सबसे ज्यादा ग्रस्त शहरी लोग होते हैं। मोटापे की वजह से हमारे शरीर में कई प्रकार की बीमारियां हो जाती हैं। इनमें मधुमेह, दिल का दौरा, उच्च रक्तचाप, लकवा, पित्त की बीमारी, ब्रेस्ट कैंसर जैसी बीमारी शामिल है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के आंकड़ों के अनुसार पूरे विश्व में लगभग 250 मिलियन से भी अधिक लोग मोटापे के शिकार हैं, जोकि पूरे विश्व के किशोरों की संख्या का सात प्रतिशत है। वहीं भारत में मोटापा 21वीं शताब्दी की एक भयंकर महामारी के रूप में उभरा है। भारत की लगभग 5 प्रतिशत जनसंख्या इस बीमारी से प्रभावित है। भारत में पिछले पांच सालों में हृदय-संबंधी बीमारियों में 5-12 प्रतिशत का इजाफा हुआ है और इस प्रकार की सभी बीमारियों का कारण मोटापा ही है।

Also Read: शुगर कम करने के उपाय – मधुमेह रोगी सफ़र में रखें अपना विशेष ध्यान!

एक सर्वे के अनुसार मोटे लोगों की संख्या हर साल लगभग 18 फीसदी की दर से बढ़ रही है। भारत में भी अब विकसित देशों की तरह ही मोटापा बढ़ता जा रहा है। बने बनाए खाने का चलन अब भारत में भी बढ़ता ही जा रहा है, जोकि मोटापे का मुख्य कारण है। मोटापे के कारण मधुमेह की बीमारी के आसार भी ज्यादा रहते हैं, जिससे हड्डियों में कैल्शियम कम हो जाता है, जोकि रीढ़ और घुटने में दर्द की बीमारी का एक प्रमुख कारण है।

मोटापे से वैसे तो हर उम्र के लोग प्रभावित हैं लेकिन यह आजकल बच्चों में ज्यादा देखा जा रहा है। इसका कारण यह है कि उन्हें बाहर का खाना खाने की आदत पड़ी हुई है। आजकल के बच्चे बाहर के खाने को ज्यादा पसंद कर रहे हैं। डायबिटीज फाउंडेशन द्वारा दिल्ली के प्राइवेट स्कूलों में कराये गये एक सर्वे के अनुसार हर तीन में से एक बच्चा मोटा है। आजकल की जीवनशैली को देखते हुए यह समस्या आगे और बढ़ रही है। आजकल बच्चे अपनी पसंद का खाना खा रहे हैं, जिनमें अधिकतर तैलीय प्रदाथों से भरे खाद्य पदार्थ होते हैं।

कैसे बचें मोटापे से?

ज्यादातर विशेषज्ञ मोटापे से बचने के लिए जंकफूड का इस्तेमाल कम से कम करने की सलाह देते हैं। जितना अधिक प्राकृतिक आहार लिया जाए, इससे बचा जा सकता है। मोटापे से बचने के लिए अधिक से अधिक सब्जियां खाने के साथ-साथ शारीरिक श्रम भी जरूरी है। खाने के सामान के पैकेट पर उसमें मौजूद तत्वों के बारे में पूरी जानकारी होने से मोटापा कम करने में मदद मिलती है। इसके अतिरिक्त पोषित आहार व उचित व्यायाम से भी मोटापे को बीमारी बनने से बचाया जा सकता है।

Image Source: Truweight.

Reply