छोटी सी अजवाइन के हैं बड़े-बड़े गुण – 10 Amazing Health Benefits & Uses of Ajwain (Carom Seeds)

किचन के प्रमुख मसालों में अजवाइन भी एक है। इसका स्वाद तीखा होता है। यह गरम व पित्तवर्धक होती है। स्वाद बढ़ाने के साथ-साथ यह आपके हाजमे को भी ठीक रखती है। सब्जियों में तड़का लगाने, परांठे और अचार में स्वाद लाने के लिए इसका प्रयोग खूब किया जाता है। कैल्शियम, फॉस्फोरस, आयरन, सोडियम व पोटैशियम जैसे पोषक तत्वों से भरपूर अजवाइन भले ही देखने में छोटी हो, मगर आयुर्वेद में इसके कई औषधीय गुण बताए गए हैं। तभी तो दादी-नानी के नुस्खों में भी अजवाइन हमेशा से सर्वोपरि रही है। तो आइये जानें, अजवाइन के कुछ खास औषधीय गुणों के बारे में…

  • पेट संबंधी समस्या रहती हो, तो आप इसे घर में पीसकर पाउडर के रूप में रख सकते हैं। अगर आपको लगता है कि आपने कुछ ज्यादा या ऑयली चीजें खा ली हैं, तो अजवाइन के दानों को काले नमक या चीनी के साथ धीरे-धीरे चबाएं।
  • पेट में किसी कारण से दर्द हो, तो गुनगुने पानी के साथ एक चम्मच अजवाइन दो या तीन चुटकी नमक के साथ ले सकते हैं।
  • कॉमन कोल्ड हो या माइग्रेन से सिर में दर्द हो, तो अजवायन को पोटली में बांधकर बार-बार सूंघें।
  • अजवाइन को गुड़ में मिलाकर सेवन करने से पित्त से छुटकारा मिलता है। प्रसूति स्त्रियों को अजवाइन व गुड़ मिलाकर देने से भूख बढ़ती है।
  • आधा चम्मच अजवाइन में दो काली मिर्च और एक चुटकी खाने वाला सोडा मिलाकर भोजन के बाद पानी के साथ लेने से वायु विकार दूर होता है।

Also Read: लहसुन एक, फायदे अनेक: लहसुन खाने के चमत्कारिक फायदे!

  • आधा चम्मच शहद में 5-6 बूंद अजवाइन का तेल मिलाकर दिन में 3-4 बार चाटें। साथ ही अजवाइन का चूर्ण नमक मिले गुनगुने जल में घोल कर उससे गरारे करें। गले की सूजन में लाभ होगा।
  • सूखी खांसी से परेशान हों, तो अजवाइन को चबाने के बाद गर्म पानी पिएं। तेजपत्ते के साथ भी इसे सोने से पहले ले सकते हैं।
  • दांतों में दर्द हो, तो अजवाइन को पानी में डालकर कुछ देर उबालें। इस पानी से दिन में दो या तीन बार गार्गल (गरारा) करें।
  • अजवाइन का बफारा देने से बच्चों को सर्दी और जुकाम से छुटकारा मिलता है।
  • देशी खांड में अजवाइन के तेल की 5-6 बूंदें डालकर खाने से वमन (उल्टी), अजीर्ण (अपच) और थकान में लाभ होता है।

Image Courtesy: Wholesome Ayurveda.

Reply