Numerology: Some Amazing Facts About Number 7 in Hindi | Krisuman

Why 7 Really is a Magic Number: अंक 7 (Seven) से जुड़े कुछ रोचक तथ्य!

अंक 7 को प्राचीन काल से ही एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंक के रूप में स्थान प्राप्त है। वाक़ई में इस अंक के साथ कई ऐसे तथ्य जुड़े हुए हैं, जो इसे विशेष बना देते हैं। आइये, जानते हैं अंक 7 से जुड़े कुछ ऐसे ही रोचक तथ्य:

  • इंद्रधनुष तो देखा ही होगा आपने? बारिश के बाद सूर्य के प्रकाश में आकाश में बनने वाला प्रतिबिम्ब 7 रंगों का होता है, जिसके बाहरी हिस्से में लाल और भीतरी हिस्से में बैंगनी रंग दिखायी देता है।
  • संगीत के सात स्वरों में प्रत्येक ध्वनि तथा ब्रह्माण्ड का संगीत समाया हुआ है। संगीत के सात स्वर हैं- सा, रे, ग, म, प, ध, नी।
  • दुनिया के सात आश्चर्य तो हमेशा से ही सभी की जिज्ञासा का केंद्र रहे हैं। इन आश्चर्यो में ताजमहल, ब्राजील के ′रियो डि जनेरियो′ में स्थित 130 फुट ऊँची ′क्राइस्ट द रिडीमर′ प्रतिमा, चीन की दीवार, रोम का कोलोसियम, 2000 साल पुराना जॉर्डन का पेत्रा शहर, दक्षिण अमरीका में एंडीज पर्वतों के बीच स्थित माचू पिच्चू शहर और मध्य अमेरिका में स्थित चिचेन इत्जा शामिल हैं।
  • दुनिया में महासागरों की संख्या भी 7 ही है। यह सात महासागर हैं- उत्तरी प्रशांत महासागर, दक्षिणी प्रशांत महासागर, उत्तरी अटलांटिक महासागर, दक्षिणी अटलांटिक महासागर, हिंद महासागर, दक्षिणी महासागर और आर्कटिक महासागर।
  • सप्ताह के दिनों की संख्या भी 7 होती है। आधुनिक रोमन कैलेण्डर में 7 दिन का सप्ताह बनाया गया, जबकि इससे पहले विभिन्न संस्कृतियों-सभ्यताओं में एक सप्ताह में 3 से 8 दिन होते थे। हालाँकि, भारतीय काल गणना में तो प्रारम्भ से ही सप्ताह को सात वारों यानी दिनों में बाँट दिया गया था।
  • कई संस्कृतियों में मनुष्य के सद्गुणों और दुर्गुणों की संख्या भी 7 ही बतायी गयी है। मनुष्य के इन 7 सद्गुणों को दो भागों में बाँटा गया है, जिनमें से चार ग्रीक से लिये गये हैं। इन चारों को हम प्रत्येक समाज में लागू कर सकते हैं- विवेक, न्याय, संयम और साहस।

यह भी पढ़ें: क्यों पापा की लाडली होती हैं बेटियां – एक पिता के जीवन में बेटी का महत्व!

  • महान दार्शनिक दांते ने भी अपनी प्रसिद्ध रचना “दि डिवाइन कॉमेडी” में मनुष्य के 7 सद्गुण-दुर्गुण का उल्लेख किया है, जो कि निम्नलिखित हैं:
    सात सद्गुण- विनम्रता, उदारता (प्रशंसा), क्षमाशीलता, परिश्रम, दयालुता, संयम, पवित्रता।
    सात दुर्गुण- ईर्ष्या, क्रोध, आलस्य, लालच, भोग, आसक्ति, कामुकता।
  • चैलेंजर एवं कोलंबिया नासा अंतरिक्ष यान दुर्घटना में 7 अंतरिक्ष यात्री मारे गये थे।
  • शरलॉक होम्स (Sherlock Holmes) के जासूसी उपन्यासों के नायक जेम्स बॉन्ड (James Bond) का सीक्रेट नंबर है 007।
  • जे.के. रॉलिंग (J. K. Rowling) की विश्वविख्यात रचना हैरी पॉटर (Harry Potter) के 7 खंड प्रकाशित हुए हैं। अंतिम व सातवाँ खंड 2007 में प्रकाशित हुआ। पहले ही दिन यू.एस. में इसकी सात मिलियन प्रतियाँ बिकीं और हैरी का जन्म भी जुलाई यानी वर्ष के सातवें माह में हुआ।
  • भारतीय शास्त्रीय नृत्य भी सात श्रेणियों में विभाजित है- ओडिसी, कत्थक, कथकली, कुचीपुड़ी, भरत नाट्यम, मणिपुरी एवं मोहिनी अट्टम।
  • सूरज के रथ में घोड़ों की संख्या भी सात बताई गयी है।
  • स्नान के भी सात प्रकार बताये जाते हैं- मन्त्र स्नान, मौन स्नान, अग्नि स्नान, वायव्य स्नान, दिव्य स्नान, मसग स्नान और मानसिक स्नान।
  • इसी तरह जीवन की सात क्रियाएँ भी हैं- शौच, दंत धावन, स्नान, ध्यान, भोजन, भजन और शयन।
  • शरीर में सात ही प्रकार की धातुएँ भी हैं- रस, रक्त, मांस, मेद (वसा), अस्थि, मज्जा एवं शुक्र।
  • देश के सात प्राचीन नगरों को 7 पवित्रतम पुरियों की संज्ञा दी गयी है- अयोध्या, मथुरा, माया (हरिद्वार), काशी, कांची, अवन्तिका एवं द्वारिका।
  • शिव पुराण की रचनाओं को 7 खण्डों में बाँटा गया है तथा वेदों के प्रथम प्रवक्ता के रूप में व्यास, भेल, कण्व, वशिष्ठ, सुश्रुत, ऋतुपर्ण और जैमिनी यह सात ऋषि बताये जाते हैं।
  • यही नहीं, ऋषियों को भी सात श्रेणियों में बाँटा गया है- ब्रम्हर्शि, देवर्शि, महर्शि, परमर्शि, काण्डर्शि, ऋतुर्ण तथा राजर्शि। आकाश में नज़र आने वाला सप्त-ऋषि तारा मण्डल मरीचि, अंगिरा, अत्रि, पुलद, केतु, पोलस्तय और वशिष्ठ सात ऋषियों के नाम पर है।

इसे भी पढ़ें: इन प्रतीकों में छुपी है भगवान श्रीकृष्ण की असली पहचान!

  • पुराणों में पृथ्वी को भी जम्बू, शाक, कुश, क्रोग्य, शाल्मलि, गोमेद और पुष्कर इन 7 द्वीपों में बाँटा गया है, जबकि इच्छु सागर, क्षीर सागर, घृत सागर, जल सागर, दधि सागर, लवण सागर, एवं सुरा सागरों को सप्त सागरों की श्रेणी में रखा गया है।
  • भारत में प्राचीन काल से ही विपाशा (व्यास), शतद्रु (सतलज), चन्द्रभागा (चिनाव), सरस्वती, इरावती (रावी), विस्तार (झेलम), तथा सिन्धु को 7 पवित्र नदियों में गिना जाता है।
  • हिन्दू धर्म के अनुसार सात फेरों के बाद ही शादी की रस्म पूर्ण होती है।
  • गीता में 700 लोक हैं तथा कृष्ण की बाँसुरी में 7 स्वर बताये गये हैं।

आपको यह Post कैसी लगी, नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स के माध्यम से हमें जरूर बताएं। यदि आप हमारी नयी पोस्ट सीधे अपने E-mail Inbox में प्राप्त करना चाहते हैं, तो कृपया SUBSCRIBE करें।

Leave your vote

0 points
Upvote Downvote

Comments

0 comments

Reply

Ad Blocker Detected!

Refresh

Log in

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy