Short Motivational Story in Hindi for Success with Moral - एक प्रेरक कहानी

अपने आपको कभी कम मत समझो – Short Motivational Story!

जिन्दगी में कभी ना कभी आपके साथ भी ऐसा ज़रूर हुआ होगा। आप असफल हुए होंगे और आपको लगता होगा कि आपका इस दुनिया में होना ना होना बराबर ही है। आप सोचते होंगे कि इस दुनिया में मेरा अस्तित्व ही क्या है? क्या फर्क पड़ता है मेरे जिंदा रहने या ना रहने से? short motivational story in hindi for success

अगर ऐसा है तो ये प्रेरक कहानी आपको खुद से खुद को पहचानने में मदद करेगी। तो आइये शुरू करें…

एक जंगल में एक बहुत बड़ा तालाब था और तालाब के किनारे एक घास का मैदान था। उस घास के मैदान में बहुत सारे तरह-तरह के पेड़ पौधे थे। short motivational story in hindi for success

उसी में एक जगह गुलाब का पौधा भी था, जिस पर बहुत सारे फूल खिले हुए थे।

लोग जब भी आते, उस गुलाब के फूलों की तारीफ करते। वे कहते, वाह क्या कमाल का फूल है, क्या घास का मैदान है, क्या जंगल है, क्या तालाब है। short motivational story in hindi for success

यह भी पढ़ें: आत्मविश्वास (सेल्फ कॉन्फिडेंस) कैसे बढ़ाएं? – आत्मविश्वास बढ़ाने के 4 अचूक टिप्स!

उस गुलाब के पौधे पर एक छोटा सा पत्ता भी था, जिसे हमेशा ये लगता था कि मेरा अस्तित्व ही क्या है। मेरे बारे में कोई कुछ कहता ही नहीं। short motivational story in hindi for success

जब लोग उसके आसपास की सभी चीज़ों की तारीफ किया करते थे तो पत्ते के मन में हीनभावना आती थी। उसे लगता था कि मेरा तो कोई अस्तित्व ही नहीं है। इस दुनिया में मेरा होना ना होना सब बराबर ही है। आखिर मैं जिंदा ही क्यूँ हूँ?

लेकिन एक दिन बहुत जोर की आंधी आई। घास उखड़ने लगी। फूलो के पौधे उखड़ने लगे। बेचारा पत्ता भी कब तक खुद को रोक पाता। वो भी उखड़ के तालाब में जा गिरा। short motivational story in hindi for success

जब वो तालाब में गिर पड़ा, तभी उसने देखा कि तालाब में एक चींटी अपना जीवन बचाने के लिए संघर्ष कर रही है।

यह देखकर पत्ते ने उस चींटी से कहा कि मैं आपकी मदद करना चाहता हूँ। क्या मैं आपको किनारे तक पहुँचा सकता हूँ? short motivational story in hindi for success

चींटी ने पहले तो कुछ सोचा, और फिर बोली, हाँ जरूर। short motivational story in hindi for success

और इस तरह वह चींटी पत्ते पर तैरते हुए तालाब के किनारे पर पहुँच गयी। short motivational story in hindi for success

चिट्टी ने पत्ते को धन्यवाद किया और बोली कि तुम्हारी वजह से ही आज मेरी जिन्दगी बच गयी। सिर्फ तुम्हारी वजह से ही मैं यहाँ जिंदा हूँ। short motivational story in hindi for success

यह भी पढ़ें: जैसा बोओगे, वैसा ही काटोगे – भाग्य से नहीं, कर्म से मिलती है सफलता!

इस पर पत्ते ने जवाब में कहा, आपका शुक्रिया कि आपने मुझे अपनी काबिलियत पहचानने में मदद की। आज मेरा सामना खुद की काबिलियत से हुआ। आज जाकर मुझे पता चला कि मैं जिंदा क्यूँ था। आज मुझे पता चला कि मेरा अस्तित्व क्या है। short motivational story in hindi for success

कहानी का निष्कर्ष… short motivational story in hindi for success

इस दुनिया में हम कई बार असफल होते हैं। जिन्दगी में कई बार हमें हार का सामना करना पड़ता है। हो सकता है कि जिस फील्ड में आप असफल हुए हैं, उस फील्ड में आपके लिए कुछ ना हो। इसलिए घबराईये मत क्योंकि दूसरा फील्ड आपका बेसब्री से इंतज़ार कर रहा है। short motivational story in hindi for success

भगवान ने हर किसी को काबिलियत दी है कि वो कुछ कर सके। बस आप अपनी काबिलियत को पहचानिए और फिर देखिए, आपका जीवन सफल कैसे होता है। short motivational story in hindi for success

इसलिए मैं आपसे कहता हूँ कि कभो अपने आप को बेकार या हीन मत समझो। काम कुछ ऐसा करो कि कामयाबी खुद पीछे-पीछे दौड़ी चली आए। short motivational story in hindi for success

Remark: यह प्रेरक कहानी  TheMotivationHandBook.com के Abhi द्वारा krisuman.com पर as a Guest Author contribute की गई है। short motivational story in hindi for success

Image Courtesy: Pixabay. short motivational story in hindi for success

Leave your vote

-1 points
Upvote Downvote

Comments

0 comments

2 Comments

Reply

Log in

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy