Tips for Happy Married Life in Hindi - ये टिप्स अपनाएं और शादी को सफल बनाएं!

सफल वैवाहिक जीवन का राज – Learn How to Live a Happy Married Life!

कोई भी रिश्ता हमेशा परफेक्ट नहीं होता। चाहे पति-पत्नी का रिश्ता हो या अन्य कोई रिश्ता, सब में कुछ न कुछ कमियां होती ही हैं। आपको उसे आपसी समझ और प्यार से निभाना होता है। इसलिए किसी भी किसी रिश्ते में पहले प्यार, समझदारी और सामंजस्य को महत्व दें। पति-पत्नी के रिश्ते में विश्वास और आदर की भावना सर्वोच्च होती है। यही वो घुट्टी है, जो इस रिश्ते को हर पल सींचती है। पति-पत्नी के बीच यदि सम्मान की भावना हो, तो रिश्तों में दरार नहीं पड़ती। भले ही पति-पत्नी का रिश्ता जन्म-जन्मांतर का माना जाता रहा हो, मगर आजकल एक ही जन्म में रिश्ते बड़ी मुश्किल से निभते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि आज की युवा पीढ़ी में पेशेंस (धैर्य) नहीं हैं। आज के युवा छोटी-छोटी बातों को मुद्दा बनाकर झगड़ बैठते हैं।

आखिर क्यों बढ़ती हैं रिश्तों में दूरियां?

रिश्तों में दरार आने की कई वजहें हैं। कभी ये दरारें आपसी मनमुटाव के चलते होती हैं, तो कभी एक-दूसरे को ठीक से न समझ पाने के कारण। कई बार एक-दूसरे के अलग सोच और विपरीत रुचियों के कारण भी रिश्तों में दूरियां बढ़ने लगती हैं। आजकल तनाव और प्रोफेशनल व्यस्तता की वजह से भी पति-पत्नी के रिश्ते प्रभावित होते हैं। ऐसे में अगर समय रहते इस खाई को कम नहीं किया जाए तो नौबत तलाक तक पहुंच जाती है।

जानिए: जीवन में सदा खुश कैसे रहें – Learn How to Live a Happy Life!

आज जितने भी तलाक के मामले सामने आते हैं, उनमें से 85 प्रतिशत युवा जोड़ियों के ही होते हैं। इनमें से ज्यादातर मामले बिहेवियर इश्यू के होते हैं। छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करना, किसी बात को दिल से लगा लेना, अपशब्द इस्तेमाल करना, फिजिकल औैर मेंटल एब्यूज – ये सारी बातें व्यवहार से संबंधित हैं, जिनसे रिश्तों में खटास आती है।

इग्नोर करना सीखें!

तौलिया यहां क्यों रखा है…? जूते पॉलिश क्यों नहीं किए…? बच्चों के स्कूल क्यों नहीं जाते…?, जैसी बातों पर हर रोज की गई तकरार आपके रिश्ते में तनाव का कारण बन जाती है और आपको पता भी नहीं चलता। इसलिए ऐसी छोटी-छोटी बातों को टालने की प्रवृत्ति बनाएं, क्योंकि आपका ऐसा व्यवहार आपके साथी को आपसे दूर ले जा सकता है। इससे बेहतर होगा कि सही समय और सही मौका देखकर धैर्य और संयम से अपनी बात पार्टनर के सामने रखें और अंतिम निर्णय उसी पर छोड़ दें। अपने पार्टनर को अपने अनुरूप ढालने की कोशिश बिल्कुल न करें।

ज्यादा अपेक्षाएं ना रखें!

शादी से पहले लड़के-लड़की की अपेक्षाएं एक-दूसरे के प्रति ज्यादा होती है। बाद में जब वे सारी बातें अपने पार्टनर में नहीं मिलती हैं, तो वो उस रिश्ते को दिल से वो सम्मान नहीं दे पाते, जो वाकई में उसे मिलना चाहिए। और फिर यहीं से शुरू होती हैं छोटी-छोटी गलतफहमियां, जिनसे दांपत्य जीवन में दरार आ जाती है।

अपनाएं ये आसान टिप्स!

  • रिश्तों में संवाद (Communication) होना बेहद जरूरी है। आपकी सब समस्याओं का समाधान संवाद पर ही टिका है। जो भी बातें हों, एक-दूसरे से शेयर करें औैर जरूरत पड़े तो सलाह भी लें। इससे आप दोनों के बीच विश्वास बढ़ेगा और सहयोग की भावना विकसित होगी।
  • घर के अन्य सदस्यों से भी जुड़े रहें। जब आप उनको अपना समझेंगे और अपनी बातें उनसे शेयर करेंगे तो वे भी आपके हर सुख-दुख में सहयोगी बनेंगे।
  • वीकेंड की प्लानिंग पहले ही तय करें कि उस पूरे दिन का कुछ समय मनोरंजन के साधनों का लुत्फ उठाने में खर्च करेंगे और इस दौरान पूरा परिवार साथ-साथ होगा। यानी अलग-अलग टीवी में अपनी-अपनी पसंद का कार्यक्रम देखने की पूरी मनाही होगी। संभव हो तो हफ्ते में एक दिन ऐसा चुनें, जब घर के सभी लोग एक साथ बैठ कर खाएं।
  • वीकेंड में पति महोदय अपनी पत्नी के लिए कुछ अच्छा बना सकते हैं। अगर खाना बनाना नहीं आता है, तो साफ-सफाई में ही उनकी मदद कर दें। इससे भी रिश्तों में आत्मीयता बढ़ती है।
  • पति-पत्नी का रिश्ता बहुत नाजुक होता है। इसे हमेशा संभाल कर रखना पड़ता है। आपका नजरिया ऐसा न हो कि बाल-बच्चे हो गए, तो पति/पत्नी की तरफ से आपकी जिम्मेदारी कम हो गई। इस रिश्ते में आजीवन सार-संभाल करने की जरूरत पड़ती है। इसलिए आप एक-दूसरे को समय-समय पर कुछ सरप्राइज और उपहार दें। संभव हो तो डेटिंग पर भी जाएं। इससे आप एक-दूसरे के साथ कुछ पल अकेले बिता पाएंगें।
  • अपने व्यवहार को थोड़ा लचीला बनाएं। अगर आपको अपने पार्टनर की किसी आदत से शिकायत है, तो उसे बदलने के बजाय उसी रूप में स्वीकार करें।
  • किसी एक रिश्ते में अपने आपको पूरी तरह से निर्भर ना करें। सभी रिश्तों को महत्व दें। किसी अवसर पर फैमिली गेट टुगेदर करें।
  • दोस्त बनाएं। अपने सुख और दुख बांटना सीखें। इससे आप खुश तो रहेंगे ही, तनाव से भी दूर रहेंगे।
  • यदि आप अपने पार्टनर की किसी बुरी आदत जैसे जुआ या धूम्रपान से परेशान हैं और आपको डर है कि आपके द्वारा दी गई नसीहत आपसी रिश्ते में कड़वाहट ला सकती है, तो आप किसी तीसरे व्यक्ति, जैसे कोई डॉक्टर, दोस्त या अन्य नजदीकी रिश्तेदार, की मदद ले सकते हैं।
  • यदि दोनों एक-दूसरे की समस्याओं को सुलझाने में असमर्थ हैं, तो किसी रिलेशनशिप एक्सपर्ट की सलाह लेने से बिलकुल भी न हिचकिचाएं।

दोस्तों, पति-पत्नी का रिश्ता काफी नाजुक होता है, जो सिर्फ और सिर्फ विश्वास और आपसी प्रेम पर ही टिका होता है। इस रिश्ते को आगे ले जाने की जिम्मेदारी दोनों के कंधों पर समान रूप से होती है। यूं तो छोटी-छोटी बातें हरेक की जिंदगी में होती है, लेकिन कभी-कभी एक छोटी सी बात ही एक मजबूत रिश्ते में दरार डाल देती है। बेशक आपका आपके पार्टनर से झगड़ा होता हो, बेहतर यही है आप उस झगड़े को वहीं खत्म कर दें। कभी एक-दूसरे से कोई बात न छुपायें। हमेशा पॉजिटिव रहें और अपने साथी को भी पॉजिटिव सोच के लिए प्रेरित करें। जब आप खुद के प्रति सकारात्मक रहेंगे, तभी दूसरों के बारे में भी अच्छा सोच पाएंगे।

Also Read: आखिर क्यों बनता है एक नाजायज़ रिश्ता – Top Reasons Why People Cheat!

अकसर देखा गया है कि यंग कपल्स एक-दूसरे की कमियों को ढूंढ़ने में ही लगे रहते हैं, जबकि सच यह होता है कि कमी दूसरे में ही नहीं होती, कहीं-न-कहीं आपके नजरिए में फर्क होता है। तभी तो आप उन अच्छाइयों को भी नजरअंदाज करते हैं, जो आपके पार्टनर में हैं। जिस रूप में आपने उसे अपनाया, जीवन के हसीन पल बिताए, उसे स्वीकार कर आगे बढ़ें। अपने पार्टनर की कमियां गिनने के बजाय आप उसकी अच्छाइयों का मूल्याकंन कीजिए। यकीन मानिए अगर आप ऐसा कर पाते हैं, तो निश्चित रूप आपको कभी एक-दूसरे से कोई शिकायत नहीं होगी। क्यों? क्योंकि तब आप एक दूसरे के सबसे अच्छे दोस्त बन चुके होंगे!

Leave your vote

0 points
Upvote Downvote

Comments

0 comments

2 Comments

Reply

Ad Blocker Detected!

Refresh

Log in

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy