Valentine Day Best Love Tips in Hindi for Couples - लव टिप्स फॉर वेलेंटाइन डे

Valentine Day Love Tips for Boyfriends and Girlfriends – कुछ इस तरह खास बनाएं अपने वैलेंटाइन डे को!

जनवरी के भीषण सर्द दिनों के बाद फरवरी की गुलाबी सर्दी में हर दिल गा उठता है। माहौल के हर जर्रे में गुनगुनी धूप रवानगी भर देती है। लेकिन आजकल फरवरी सिर्फ इतने भर के लिए सेलिब्रेटेड महीना नहीं है। इस महीने का खास इंतजार वैलेंटाइन डे के लिए भी होता है। हर दिल इस दिन के लिए कुछ खास सपने संजोता है। जो प्यार में हैं, उनका भी दिल इस दिन का इंतजार करता है। और जिन्हें इजहार करना है, वह तो इस दिन को लेकर बेताब और बेसब्र रहते ही हैं। इस प्रेम भरे दिन की लोकप्रियता कुछ ऐसी बढ़ी है कि कंपनियां तो कमर कस कर इस प्रेम का सेलिब्रेशन करने कई महीने पहले से ही सक्रिय हो जाती हैं। सो, अब यह दिन केवल प्रेमियों ही नहीं, गिफ्ट शॉप के मालिकों और फुलवालों के लिए भी महत्वपूर्ण बन चुका है और किशोरों के मम्मियों और पापाओं के लिए भी। इन सबके चलते कई राजनीतिक पार्टियों की सांस्कृतिक शाखाओं की सक्रियता के लिए भी यह महत्वपूर्ण हो गया है। पुलिस वालों की अतिरिक्त कमाई का साधन है यह दिन और भी न जाने क्या-क्या? यानी एक अनार के सौ बीमार। जब ऐसा हो, तो फिर एक प्यारा दिन खराब होते देर नहीं लगती। इस दिन को लेकर बांधी गई उम्मीदें भी इसका मजा खराब करने का कारण बन जाती हैं। इसीलिए वैलेंटाइंस डे आए, तो इसे प्यार का यादगार दिन बनाने में कोई कसर न छोड़ें।

नो टेंशन, ओनली लव…

वैलेंटाइन डे का एक बड़ा साइड इफेक्ट है टेंशन। इस दिन कई तरह की टेंशन होती है। कभी-कभी तो महीना भर पहले से टेंशन रहती है। टेंशन के विषय अपनी-अपनी स्थिति के अनुसार अलग हो सकते हैं। जैसे कि गिफ्ट क्या दें? बजट की टेंशन? अगर गिफ्ट खरीद कर आ गया, तो कैसे दें, का टेंशन। इजहार स्वीकार होगा या नहीं का टेंशन। इजहार मुझसे किया जाएगा या नहीं, इसका भी टेंशन तो होता ही है? इस दिन सारी टेंशन भूल जाएं, इंतजाम हुआ तो ठीक, वरना प्यार का तो हर दिन होता है। और जो प्यार करते हैं, वह एक-दूसरे की मुश्किल न समझें, तो प्यार कैसा?

Also Read: अगर आपका भी पार्टनर से होता है अक्सर झगड़ा तो आजमाएं ये 6 आसान टिप्स!

निगेटिविटी से रहें दूर…

कई लोग दिलजलेपन के कारण इस खूबसूरत दिन को ‘डाउट डे’ में भी बदल देते हैं। सेलफोन या ईमेल पर किसका मैसेज आया है? पति या पत्नी की आउटिंग को लेकर शक, मम्मी-पापा का बेटी के टिप-टॉप होकर बाहर निकलने पर शक। इस निगेेटिव फीलिंग से दूर रहें इस दिन। इस दिन शक करने का अपराधबोध न पैदा करें अपने मन में। आज मन में सिर्फ प्यार को जगह दें।  मम्मी-पापा को अपनी आउटिंग का ब्योरा देकर निकलें, ताकि मन में कोई भारीपन न हो और प्यार से दिल रहे हल्का और खिला-खिला।

दिल रखें खुशनुमा…

यह दिन ऐसा है कि अगर प्यार की नेमत मिली, तो ठीक वरना दिन ‘सैड डे’ में बदलने में देर नहीं लगती। कुछ प्यार के सिपाही इस दर्द से दूर रहने के लिए इस आग में कूदते ही नहीं, इसलिए टुकुर-टुकुर दूसरों के हाथ का गुलाब ताकते रह जाते हैं। दिल में कसक रह जाती है कि काश कोई हमें भी हमारे बिना उम्मीद किए एक गुलाब का हकदार मान लेता। लेकिन अगर वैलेंटाइन इस बार नहीं मिला, तो अगली बार की उम्मीद क्यों त्यागना भला? वैसे भी खुशी भरे दिल की आभा चेहरे पर भी दिखाई देती है। मायूसी चेहरे को बुझा देती है। अगर आपका साथी इस दिन को याद नहीं रख पाया, तो आप ही पहल कर दें। थोड़ा गिला-शिकवा कर आपस में हंसना-हंसाना भी कर लें, ताकि दिल हल्का भी हो जाए और इजहार भी।

मन को लगाएं पंख…

इस दिन संकोच करने वालों की भी कमी नहीं होती। आमतौर पर उम्रदराज जोड़ों को वैलेंटाइंस डे जैसे दिन बेकार के आयोजन लगने लगते हैं। संकोच भी होता है कि इस उम्र में अगर वैलेंटाइंस डे मनाया, तो बच्चे क्या सोचेंगे? या कि अब तक नहीं बदले, तो इस दिन के लिए क्या बदलें। पर जिसके साथ उम्र गुजारने का फैसला किया है और कई साल के उतार-चढ़ाव एक-साथ देखे, उसे सुबह-सुबह एक गुलाब देने में क्या संकोच और किसकी इजाजत लेनी? इस दिन एक गुलाब आपके रिश्ते को फिर से पंख लगा देगा।

दिल को देखें, न कि पैसे को…

वैलेंटाइंस डे और जेब का एक अटूट रिश्ता है। इस दिन तो फूलों के दाम तक आसमान छूने लगते हैं। सिर्फ फूल पर रुपये खर्च करना बेवकूफी लगता है और ऐसा न करो, तो अपना प्यार इजहार की होड़ में पिछड़ता लगता है। लेकिन प्यार में पैसे क्या देखना। बस एक फूल ही काफी है इस दिन को रूमानी बनाने के लिए। आैर हां, याद रखें कि इस दिन घर से बाहर कई ऐसे लोग भी मिलेंगे, जो आपके प्यार को ना तो समझेंगे और न ही उसका सम्‍मान करेंगे। इसलिए बाहर सेलिब्रेट करें, तो समझदारी केे साथ्‍ा।

Also Read: 9 लव टिप्स जो बनाएंगे आपके रिश्ते की कच्ची डोर को मजबूत!

रिश्तों में भरें प्यार का रंग…

अपनी भावनाओं और जज्बातों को बयां करने के लिए बेशक एक दिन काफी नहीं होता, लेकिन किसी खास दिन के बहाने हम एक-दूसरे के और करीब आने का मौका तो ढूंढ ही लेते हैं। मदर्स डे, फादर्स डे की तरह वैलेंटाइंस डे भी प्यार करने वालों के लिए स्पेशल दिन बन जाता है। इस दिन प्रेमी और प्रेमिका के बीच पल रहे प्यार को और नजदीकियां मिल जाती हैं। हर कोई अपने तरीके से प्यार में ज्यादा मिठास घोलने की कोशिश करता है। और तो और, प्यार के इस दिवस को खास बनाने में अब बाजार भी पीछे नहीं है। महंगे-महंगे गिफ्ट और थीम पार्टीज की मदद से प्रेमी जोड़ों को लुभाने की कोशिश चलती रहती है। चलो अच्छा है! जिंदगी में रंग भरने के लिए ऐसे सेलिब्रेशन होते रहने चाहिए, पर इस खूबसूरत एहसास को एक दिन में बांधकर ही न देखा जाए। कहते हैं प्यार का रंग जितना उड़ता है, उसका रंग भी उतना ही ज्यादा फैलता है। इसलिए प्यार के इस रंग से हर रिश्ते को सींचने की कोशिश होनी चाहिए। खुद से प्यार करें और दूसरों के बीच प्यार बांटें, जिंदगी अपने आप संवर जाएगी। भले ही प्यार के इस एक दिवस को खास तरीके से मनाएं, पर जीवन में प्रेम उत्सव को हर दिन मनाने का माहौल तैयार रखें।

हैप्पी वैलेंटाइंस डे!

Image Courtesy: Pixabay.

Reply