Winter Health Care Tips in Hindi - सर्दी से बचने के प्राकृतिक घरेलू उपाय!

सर्दी का मौसम: जानें ठंड और जुकाम से बचने के आसान और घरेलू उपाय!

भले ही आपने अभी तक अलमारी से गर्म कपड़े न निकाले हों और आपको ठंडी हवा में बैठना अच्छा लग रहा हो, लेकिन पल-पल बदलते मौसम के मिजाज को आप नजरअंदाज नहीं कर सकते। रात-दिन का उतरता-चढ़ता तापमान सर्दी के आने की दस्तक दे रहा है। इन दिनों सुबह-शाम के तापमान में काफी कमी भी आई है। ऐसे में थोड़ी सी लापरवाही भी आपको बीमार बना सकती है।

खांसी-जुकाम न कर दे परेशान!

बेशक आपको अभी भी गर्मी का एहसास हो रहा है, मगर मौसम की मौजूदा स्थिति सेहत के लिए ठीक नहीं है। चूंकि हम इन बदलावों के लिए तैयार नहीं रहते, इसलिए बदलता मौसम हमारे ऊपर असर कर जाता है। मौसम का यही असर सर्दी-जुकाम, न्यूमोनिया, टाइफाइड, और वायरल फीवर के रूप में नजर आता है। सबसे ज्यादा परेशानी अस्थमा, डायबिटीज, हाई बीपी अथवा दिल के मरीजों को होती है। इसलिए बदलते मौसम के ढंग को समझते हुए जरूरी है थोड़ी सावधानी।

  • खानपान ही नहीं, आपको अपनी जीवनशैली में भी बदलाव करने की जरूरत है। तापमान के अनुसार उपयुक्त कपड़ों का खास ध्यान रखें, जो कि आमतौर पर लोग नहीं करते। आप डायबिटिक हैं या 60 से ऊपर, कोलेस्ट्रॉल टेस्ट (लिपिड प्रोफाइल) जरूर कराएं। हृदय रोगी जो खून पतला करने वाली या ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने वाली दवाएं लेते हैं, वे नियमित रूप से दवाओं का इस्तेमाल करें।
  • इन दिनों मच्छरजनित समस्याएं भी खूब होती हैं, इसलिए मच्छरों से बचाव करें। सोते समय नेट का इस्तेमाल करें और बाहर जाते समय मच्छरों से बचाव के लिए बनी खास क्रीम यूज करें।
  • एसी चलाना बंद करें और नहाने का पानी गुनगुना ही रखें। वायरल संक्रमित व्यक्ति से जहां तक संभव हो, निश्चित दूरी बनाए रखें। घर या ऑफिस में किसी को वायरल हुआ हो, तो उसे रूमाल या मास्क इस्तेमाल करने की सलाह दें।
  • कभी खाली पेट घर से बाहर न निकलें, क्योंकि खाली पेट शरीर को कमजोर करता है और आप वायरल की चपेट में आ सकते हैं।

जानिए: कमर दर्द के मुख्य कारण व योगासन द्वारा प्राकृतिक घरेलू उपचार!

  • मौसम के हिसाब से कपड़े पहनें। गर्म कपड़े ना भी पहनें, लेकिन इतने कपड़े जरूर पहनें कि शरीर पूरी तरह ढंका हुआ हो। खासकर सुबह और शाम को घर से बाहर निकलते समय कपड़ों का खास ध्यान रखें।
  • खानपान में भी बदलाव लाएं। ठंडी तासीर की चीजें अब न खाएं। मौसमी फल-सब्जियां जरूर खाएं। इस समय हाइजीन (स्वच्छता) मेनटेन करना भी बहुत जरूरी होता है।
  • अगर बाहर खाएं, तो सफाई का पूरा ध्यान रखें। बासी खाना, फल और सब्जियां न खाएं। शरीर में पानी की कमी न होने दें। सादा पानी या नींबू पानी पीना भी ठीक रहेगा।
  • बच्चों को इस मौसम में खास केयर की जरूरत पड़ती है, क्योंकि इम्युनिटी कमजोर होने की वजह से वे मौसमी बीमारियों की चपेट में शीघ्र आ जाते हैं। इसलिए इस मौसम के अनुसार बच्चों को अब पूरी बाजू के कपड़े पहनाएं। रात को ज्यादा देर तक बाहर बच्चों को न खेलने दें। फ्रिज का पानी तो उनको बिल्‍कुल भी न दें। कोल्ड ड्रिंक आदि से बच्चों को दूर रखें और खुद भी इससे दूर रहें। जूस या शेक में भी बर्फ का इस्तेमाल बंद करें।

व्यायाम करें, मगर बचें ठंड से!

  • नियमित रूप से व्यायाम करके भी शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यूनिटी पावर को बढ़ाया जा सकता है। कुछ ऐसे व्यायाम भी हैं, जो हमें वायरल बुखार से बचाते हैं। इसलिए शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए आप नियमित रूप से कम-से-कम 45 मिनट तक सुबह-सुबह जॉगिंग करें। तेज-तेज चलना, साइकिलिंग करना, स्विमिंग, रस्सी कूदना, टेनिस या बैडमिंटन खेलना, जैसे व्यायाम इम्युनिटी को बढ़ाते हैं।
  • इसके अलावा मांसपेशियों और जोड़ों को फिट रखने के लिए स्ट्रेचिंग प्रोग्राम भी फायदेमंद रहेगा। वजन कम करने से संबंधित कुछ व्यायाम भी किए जा सकते हैं। इस तरह आप इस बदलते मौसम में भी फिट रह सकते हैं, लेकिन इनके साथ ठंड से सुरक्षा भी जरूरी है। अगर मौसम ठीक नहीं लग रहा है, तो आप घर पर ही कम-से-कम आधा घंटा रोजाना तेज-तेज कदमों से चलें। चाहें तो योग, ध्यान या एरोबिक्स एक्सरसाइज का लाभ भी उठा सकते हैं।

सेहत को दुरुस्त रखने के लिए करें बादाम और तुलसी का सेवन!

  • आश्विन शुरू होते ही सर्दी अपनी मौजूदगी का एहसास कराने लगती है। मौसम के मिजाज को देखते हुए अब आपको भी अपने रहन-सहन व खानपान में बदलाव लाने की जरूरत है, ताकि बदलते हुए मौसम में भी आप फिट रह सकें। इस मौसम में होने वाली ज्यादातर बीमारियां एलर्जी के कारण होती हैं, इसलिए एलर्जी से बचने का हर संभव प्रयास करें। ताजा आंवले का सेवन आपको एलर्जी से बचने में मदद करेगा। छिलके वाला बादाम भी खाना ठीक रहेगा। यह इम्यूनिटी को बढ़ाकर बैक्टीरिया के असर को बेअसर करता है।

Also Read: लहसुन एक, फायदे अनेक: लहसुन खाने के चमत्कारिक फायदे!

  • बादाम की तरह मूंगफली में भी माइक्रोन्यूट्रिएंट तत्व होता है, इसका सेवन भी आप कर सकते हैं। लहसुन और तुलसी किसी-न-किसी रूप में जरूर लें क्योंकि यह रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का काम करते हैं। इसके अलावा विटामिन-सी युक्त मौसमी फल और सब्जियां भी आपके लिए फायदेमंद रहेंगी। खाना गुनगुना खाना ठीक रहेगा और सुबह हलका गुनगुना पानी लें। इसके साथ आप नींबू या शहद का सेवन भी कर सकते हैं। इस तरह छोटे-छोटे उपाय कर आप मौसमी प्रभाव को कम कर सकते हैं।

त्वचा और बालों का रखें खास ध्यान!

  • मौसम की खुश्की का सबसे ज्यादा असर आपकी त्वचा और बालों पर ही दिखता है। ऐसे में आपकी त्वचा को अधिक पोषण की आवश्यकता होती है। दूध से बने उत्पाद, शीया बटर, सोया या गेहूं के अंकुर आदि लेना काफी फायदेमंद रहेगा। नहाने और मुंह धोने के लिए हमेशा गुनगुने और साफ पानी का इस्तेमाल करना चाहिए। नहाने के पानी में थोड़ा-सा बेबी ऑयल भी मिला सकते हैं। 5.5 पीएच वाले नॉन-डिटर्जेंट फेस वॉश से चेहरा धोएं।
  • दिन में बाहर निकलने से पहले सनस्क्रीन लोशन जरूर लगाएं और हर तीन-चार घंटे बाद लगाते रहें। त्वचा की नमी बरकरार रहे, इसके लिए जलयुक्त फल जैसे संतरा या अन्य मौसमी फल एवं सब्जियां अपनी डाइट में शामिल करें। इन दिनों ठंडी हवा के कारण होंठ भी फटने लगते हैं, इसीलिए अच्छी किस्म के लिप बाम का इस्तेमाल करना चाहिए। ग्लिसरीन के साथ मिल्क क्रीम का मिश्रण भी रात में होंठों पर लगा सकते हैं।
  • शैंपू करने से पहले बालों में नारियल तेल की मालिश करें और फिर शैंपू करने के बाद कंडीशनर भी बालों में लगाएं, लेकिन सिर धोने के लिए बहुत अधिक ठंडे या गरम पानी का प्रयोग न करें। इससे भी बाल खराब होते हैं।

ताकि इम्यून सिस्टम रहे मजबूत!

  • पिछले कुछ दिनों से मौसम में काफी बदलाव हुआ है। दिन की अपेक्षा सुबह-शाम के माहौल में ठंडक बढ़ी है। जल्दी-जल्दी हो रहे इस बदलाव का सीधा असर हमारी सेहत पर हो रहा है, क्योंकि पल-पल बदलते तापमान के हिसाब से शरीर का तापमान मेंटेन नहीं हो पा रहा है, जिसकी वजह से वायरल, कॉमन फ्लू आदि की समस्या बढ़ रही है। इसके सबसे ज्यादा शिकार बुजुर्ग, बच्चे अथवा वे लोग हो रहे हैं, जिनके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम है। ऐसे में ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है।

Also Read: मधुमेह रोग के कारण, लक्षण, प्रकार, प्राकृतिक उपचार एवं उत्तम आहार!

  • इम्युनिटी बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करें। मौसम बदलने के दौरान बहुत ठंडे या बहुत गर्म तापमान से बचें। भोजन हल्का ही करें। मसालेदार खाना, जिसमें लाल मिर्च, काली मिर्च या हरी मिर्च का इस्तेमाल ज्यादा हो, उससे परहेज करें। बेमौसम आने वाली सब्जियां या फल खाना बंद कर दें। शरीर के आंतरिक अंगों की शुद्धि के लिए वात, पित और कफ विकार का खास ख्याल रखें। जो भी खाएं, आयुर्वेद के नियम के अनुसार हो। बाहरी खाने से बचें।

सेहत की दोस्त हैं ये घरेलू चीज़ें!

अगर आप बदलते हुए मौसम में खुद को और अपने परिवार को सेहतमंद रखना चाहते हैं, तो कुछ सामान्य एहतियात बरतकर इन मौसमी बीमारियों से बचा जा सकता है। बीमार होने पर जड़ी-बूटियों की मदद से भी राहत पाई जा सकती है।

  • तुलसी के पत्ते और अदरक का इस्तेमाल करें। तुलसी की पत्तियों में कीटाणुओं को मारने की क्षमता होती है और अदरक गले की खराश को जल्द ठीक करता है। लिहाज़ा बदलते मौसम में सुबह खाली पेट दो-चार तुलसी की पत्तियां चबाएं या फिर काढ़ा बनाकर पिएं।
  • एक कप पानी में तुलसी की पत्तियां डालें। उसमें 8-10 दाने काली मिर्च के डालें। फिर इसमें थोड़ी अदरक कुचल कर डाल दें। एक लौंग, थोड़ी दालचीनी और एक चुटकी सौंठ मिलाकर इन सबको उबालें। इस मिश्रण को तब तक उबालें जब तक कि पानी आधा न रह जाए। फिर इसे छान कर स्वाद के मुताबिक नमक या चीनी मिलाकर पी लें। जैसे ही आपको वायरल फीवर का असर महसूस हो, इस काढ़े को बनाकर दिन में कम से कम दो बार पिएं। इसका कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं होता। और हां, इस बात का खास ध्यान रखें कि काढ़ा पीकर तुरंत घर के बाहर न निकलें।
  • रात को सोते समय एक कप दूध में चुटकी भर हल्दी डालकर पीने से भी वायरल फीवर में राहत मिलती है। हल्दी एंटीबायोटिक होती है और यह वायरस के कीटाणुओं का नाश करने में मदद करती है।

अपनाएं ये छोटी, मगर काम की बातें!

  • मौसम के मिजाज को समझते हुए पूरी बाजू के कपड़े पहनें।
  • अस्थमा या एलर्जी है, तो दवाएं व इनहेलर का नियमित इस्तेमाल करें। एलर्जी की समस्या रहती है, तो धूल, धुएं और प्रदूषण से बचें।
  • दिन में खिड़कियां खोल दें, ताकि घर में शुद्ध वायु का प्रवेश हो सके। अगर एसी वगैरह चलाते हैं, तो ऐसा करना बहुत जरूरी है।

जानिए: खाने की पौष्टिकता बनाए रखने के 16 आसान तरीके!

  • एलर्जी से बचने के लिए बिस्तर और परदों को साफ-सुथरा रखना भी बहुत जरूरी है।
  • इस मौसम में मच्छरों से बचाव भी जरूरी है। बाहर जाते समय एंटी-मॉस्किटो क्रीम लगाएं।
  • नियमित व्यायाम या स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज करें।

सर्दी से बचाव के लिए कुछ आसान टिप्स!

  • एलर्जी की वजह से इस मौसम में सर्दी-जुकाम ज्यादा होता है। इसलिए विटामिन सी से भरपूर फल आैर सब्जियां अपने भोजन में शामिल करें।
  • बहुत गर्म या बहुत सर्द तापमान से बचें।
  • छींकते या खांसते समय मुंह पर रुमाल जरूर रखें।
  • कमरे में शुद्ध वायु के आगमन की व्यवस्‍था जरूर होनी चाहिए। धूप के लिए दिन के समय खिड़कियां वगैरह खोलकर रखें।

Leave your vote

0 points
Upvote Downvote

Comments

0 comments

3 Comments

Reply

Ad Blocker Detected!

Refresh

Log in

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy